कोरांव तहसील के काशीराम आवास की बिजली सप्लाई कटने से गरीबों पर आयी आफत

REPORT-MANOJ SHARMA-PRAYAGRAJ

बिजली के लिए बात करने पर गरीबों के आंखों से छलक पड़े आंसू।
गरीबों ने कहा हमारी समस्या का कोई पारावार नहीं साहब हमारी समस्या ही गरीबी है।
क्योंकि हम गरीबी में पैदा हुए हैं।
गरीबी की बदनसीबी क्या-क्या करा रही है।
गरीबों का पेट सरकार पर भारी पड़ जाता है।
सरकार से जिस चीज की आशा थी ठीक उसके विपरीत हो रहा है।
हर कोई इंसान झिझकार कर बात करता है।
साहब गर्मी की समस्या को कोई दूर नहीं करता।
यह कैसी विडंबना है बहन ने बसाया और भाई भगा रहा है।
हम गरीबों को हर कोई आकर धमका के चला जाता है।
कोरांव प्रयागराज। प्रयागराज के को रां व तहसील कस्बे के तहसील के बगल में बने काशीराम आवास शहरी गरीबों के लिए आवास मुहैया कराया गया है जहां पर उनसे इस बात को कहा गया कि यहां निवास करने वाले सभी गरीबों को बिजली मुफ्त दी जाएगी वही आज भी उमस भरी गर्मी में 20 दिन से एसडीओ कोरा व के आदेशानुसार बिजली की सप्लाई बंद कर दी गई है यहां रहने वाले गरीब तबके के लोग पाने के लिए तो परेशान ही थे किंतु आज उजाले से भी दूर हो गए हैं ऐसे में उनके चेहरे मायूस होकर सरकार से गुहार लगा रहे हैं गरीबों को इस समस्या से कैसे निकाला जा सके वही कोराव नगर अध्यक्ष के संपर्क सूत्रों से यह जानकारी प्राप्त हुई कि जब तक बिजली का कनेक्शन गरीब लोग नहीं करवाएंगे तब तक उन्हें बिजली की सप्लाई नहीं दी जाएगी चाहे वो कितना भी रोए या गिड़गिड़ाए ऐसा सरकार का आदेश है यही नहीं बल्कि एसडीओ कोराव अमित से भी बात करने पर यही निष्कर्ष निकला कि जब तक बिजली बिल या बिजली कनेक्शन नहीं होगा सप्लाई नहीं चालू होगी जिसमें गरीबों के चेहरों पर मायूसी व्याप्त है उनकी बातों को सुनने के लिए ना तो नगर अध्यक्ष ना ही क्षेत्रीय विधायक और ना ही उपजिलाधिकारी और ना ही एसडीओ आगे आ रहे हैं उनकी समस्या का निदान कैसे किया जा सके लोगों से बात करने पर उन्होंने कहा कि यदि बिजली की सप्लाई नहीं दी जाती तो नगर अध्यक्ष और एसडीओ के खिलाफ कार्यालय पर बैठेंगे जिनका कहना है कि हम दो वक्त की रोटी भी नहीं कमा पाते ऐसे में कनेक्शन करवा पाना या बिजली का बिल भरना मेरे लिए मुश्किल है सवाल यह उठता है कि आखिर सरकार या सरकार के कर्मचारी गरीबों को सुविधा कब मुहैया कराएगी क्यों उन्हें खून के आंसू रुलाती है उनकी गरीबी को दूर कौन करेगा यदि परधना की पहड़ी के गरीबों के बारे में विधायक से बात की जाती है तो सवाल को वोटों से जोड़ देते हैं कि मुझे उस क्षेत्र से वोट ही कितने मिले है देखना यह है कि खबर चलने तक सरकार इस पर किस तरह ध्यान देती हैं ।

2022-06-21 10:42 pm

SUCCEED INSTITUTE